फ़रवरी 9, 2011

लारीस्सा

लारीस्सा

लारीस्सा

यह नेपच्युन का पांचवा ज्ञात चन्द्रमा है।
कक्षा : 73,600 किमी नेपच्युन से
व्यास : 193 किमी(208 x 178)
द्रव्यमान : ?

लारीस्सा पेलासगस की पुत्री का नाम है।

इसकी खोज 1989 मे वायेजर 2 ने की थी। इसकी खोज का श्रेय हेराल्ड रेइट्सेमा को दिया जाता है।

प्राटेउस की तरह लारीस्सा भी अनियमित आकार का चन्द्रमा है।

Advertisements
फ़रवरी 9, 2011

नाइड,थैलसा,डेस्पीना,गैलटीआ

नेपच्युन के अंदरूनी चार चंद्रमा है:

  1.  नाइड
  2. थैलसा
  3. डेस्पीना
  4. गैलटीआ

नाइड

नाइड या थैलसा

नाइड या थैलसा

यह नेपच्युन का सबसे अंदरूनी ज्ञात चन्द्रमा है।

कक्षा : 48,200 किमी नेपच्युन से
व्यास : 58 किमी
द्रव्यमान : ?

इसकी खोज 1989 मे वायेजर 2 ने की थी।

नाईड नदियो, फव्वारो और झरनो की परीयां है।
नाईड, थैलसा, डेस्पीना और गैलेटीआ सभी अनियमित आकार के चन्द्रमा है।

थैलसा

यह नेपच्युन का दूसरा ज्ञात चन्द्रमा है।

कक्षा : 50,000 किमी नेपच्युन से
व्यास : 80 किमी
द्रव्यमान : ?
थैलसा ऐथर और हेमेरा की पुत्री है। थैलसा ग्रीक मे सागर को कहते है। इसकी खोज 1989 मे वायेजर 2 ने की थी।

डेस्पीना

डेस्पीना

डेस्पीना

यह नेपच्युन का तीसरा ज्ञात चन्द्रमा है।

कक्षा : 52,600 किमी नेपच्युन से
व्यास : 148 किमी
द्रव्यमान : ?
डेस्पीना नेपच्युन और डेमीटर की पुत्री का नाम है।
इसकी खोज 1989 मे वायेजर 2 ने की थी।

गैलटीआ

गैलीटीआ

गैलीटीआ

यह नेपच्युन का तीसरा ज्ञात चन्द्रमा है।
कक्षा : 62,000किमी नेपच्युन से
व्यास : 158 किमी
द्रव्यमान : ?
गैलेटीआ एक सीसलीयन नेरीड थी जो सायक्लोप्स पालीफेमुस की प्रेमीका थी।

इसकी खोज 1989 मे वायेजर 2 ने की थी।

फ़रवरी 9, 2011

नेपच्युन

नेपच्युन

नेपच्युन

नेपच्युन सूर्य का आंठवा और चौथा सबसे बड़ा(व्यास से) ग्रह है। नेपच्युन युरेनस से व्यास के आधार पर छोटा लेकिन द्रव्यमान के आधार पर बड़ा ग्रह है।
कक्षा : 4,504,000,000 किमी(30.06 AU) सूर्य से
व्यास : 49,532 किमी(विषुवत पर)
द्रव्यमान :1.0247e26 किग्रा

रोमन मिथको के अनुसार नेपच्युन सागर का राजा है, इसे ग्रीक मे पासीडान कहा जाता है।

नेपच्युन पहला ग्रह है जिसके होने की भविष्यवाणी गणितिय आधार पर की गयी थी और इसे गणना की गयी जगह पर खोज निकाला गया। युरेनस की खोज के बाद यह पाया गया कि उसकी कक्षा न्युटन के नियमो का पालन नही करती थी। जिससे यह अनुमान लगाया गया कि कोई अन्य ग्रह युरेनस की कक्षा को प्रभावित कर रहा है। एडम्स और ले वेरीएर ने स्वतंत्र रूप से बृहस्पति, शनि और युरेनस की स्थिति के आधार पर नेपच्युन के स्थान की गणना की। गाले और डीअरेस्ट ने 23सितंबर 1846को नेपच्युन की गणना किये गये स्थान के निकट खोज निकाला। इस खोज के श्रेय के लिये एडम्स और ले वेरीयर के मध्य अंतरराष्ट्रिय विवाद उत्पन्न हो गया। जिसे इस खोज का श्रेय दिया जाता उसे इस ग्रह के नामकरण का अधिकार मिलता। अब इन दोनो विज्ञानियो को इस ग्रह की खोज का श्रेय दिया जाता है। बाद के निरिक्षणो से पता चला की एडम्स और ले वेरीयर द्वारा गणना की गयी कक्षा से नेपच्युन विचलित हो जाता है और उनके द्वारा गणना किये गये स्थान पर नेपच्युन का पाया जाना एक संयोग था।

नेपच्युन का आकार(पृथ्वी की तुलना मे)

नेपच्युन का आकार(पृथ्वी की तुलना मे)

इसके दो सौ वर्ष पहले 1613मे गैलेलीयो ने नेपच्युन बृहस्पति के समीप देखा था लेकिन उसे एक तारा समझ कर उपेक्षित कर दिया था। लगातार दो रातो को गैलेलीयो ने इसे पास के एक तारे के संदर्भ मे अपने स्थान से विचलित होते देखा था, बाद की रातो मे वह गैलेलियो की दूरबीन से दृश्यपटल से ओझल हो गया था। ध्यान दे कि आकाश मे केवल ग्रह ही गति करते नजर आते है, तारे अपने स्थान पर ही रहते है। यदि गैलेलीयो ने इसके पहले की कुछ रातो को नेपच्युन को देखा होता तब उन्हे इसकी गति नजर आ जाती और नेपच्युन की खोज का श्रेय गैलेलीयो को जाता। लेकिन दुःर्भाग्य से बादलो के छाये रहने से गैलेलीयो उन रातो को आकाश का निरिक्षण नही कर पाया था।

नेपच्युन की यात्रा केवल एक ही अंतरिक्ष यान वायेजर 2 ने की है। नेपच्युन के बारे मे अधिकतर जानकारी इस यान द्वारा दी गयी है लेकिन हब्बल और अन्य वेधशालाओ ने भी इस ग्रह के बारे मे जानकारी जुटायी है।

प्लूटो की कक्षा नेपच्युन की कक्षा को काटती है। इससे कभी कभी वह कुछ वर्षो तक नेपच्युन की कक्षा के अंदर भी रहता है।

१. उपरी वातावरण,२. हायड्रोजन, हीलीयम, मिथेन का वातावरण,३.पानी, मिथेन, अमोनिया से बना भूपटल , ४.बर्फ और चट्टानो से बना केंद्रक

१. उपरी वातावरण,२. हायड्रोजन, हीलीयम, मिथेन का वातावरण,३.पानी, मिथेन, अमोनिया से बना भूपटल , ४.बर्फ और चट्टानो से बना केंद्रक

नेपच्युन की संरचना युरेनस के जैसी है। यह मुख्यतः चट्टान और विभिन्न तरह की बर्फ से बना है जिसमे 15% हायड्रोजन और थोड़ी हीलीयम है। यह बृहस्पति और शनि के विपरित है जो मुख्यतः हायड़्रोजन से बने है। युरेनस और नेपच्युन मे बृहस्पति और शनि के विपरित परतदार आंतरिक संरचना नही है और उसमे पदार्थ समान रूप से वितरित है। इनके केन्द्र मे पृथ्वी के आकार का चट्टानी केन्द्रक है।

नेपच्युन के वातावरण मे 83% हायड्रोजन, 15% हीलीयम और 2% मिथेन है।

नेपच्युन का निला रंग उसके वातावरण मे उपरी भाग मे स्थित मिथेन द्वारा लाल रंग के अवशोषण के कारण है लेकिन किसी अन्य अज्ञात तत्व की मौजूदगी से इसके बादलो को गहरा निला रंग मीला है।

अन्य गैस महाकाय ग्रहो की तरह नेपच्युन पर बादलो के पट्टे है जो तेज गति से बहते है। नेपच्युन  पर पूरे सौर मंडल मे सबसे तेज गति से 2000किमी/प्रति घंटा तक की गति से हवायें चलती है।

नेपच्युन भी युरेनस और बृहस्पति की तरह सूर्य से प्राप्त उर्जा से ज्यादा उर्जा उत्सर्जित करता है।

बड़ा गहरा धब्बा, द स्कूटर और छोटा गहरा धब्बा

बड़ा गहरा धब्बा, द स्कूटर और छोटा गहरा धब्बा

वायेजर 2 ने नेपच्युन के दक्षिणी गोलार्ध पर  एक बड़ा गहरा धब्बा देखा था। यह बृहस्पति के महाकाय लाल धब्बे के आकार से आधा था। इस धब्बे मे पश्चिम की ओर की दिशा मे हवा 300 मी/सेकंड की गति से बह रही थी। वायेजर 2 ने दक्षिणी गोलार्ध एक और छोटा धब्बा और एक अनियमित आकार का सफेद बादल देखा था। यह सफेद आकार का धब्बा 16 घंटे मे नेपच्युन की परिक्रमा कर रहा था, इसे ’द स्कूटर’ नाम दिया गया था।

1994 मे हब्बल दूरबीन ने पाया कि यह महाकाय धब्बा अदृश्य हो चूका था। शायद यह तूफान शांत हो गया है या वातावरण की किसी और गतिविधी से दब गया है। कुछ महिनो बाद हब्बल ने उत्तरी गोलार्ध मे एक नया धब्बा देखा। यह प्रदर्शित करता है कि नेपच्युन का वातावरण तेजी से बदलता है, शायद वातावरण के बादलो की उपरी और निचली सतह मे तापमान के परिवर्तन से।

अन्य गैस ग्रहो की तरह नेपच्युन के भी वलय है। बृहस्पति की तरह ये वलय गहरे रंग के है। पृथ्वी से यह वलय टूटे हुये(चाप के जैसे) दिखते है लेकिन वायेजर की तस्विरो मे यह पूरे है। इसमे से एक वलय मुड़े हुये आकार का है। सबसे बाहरी वलय का नाम एडम्स है जिसके तीन मुख्य चाप लिबर्टी, इक्विलिटी तथा फ्रेटर्नीटी है, इसके बाद का वलय अनामित है जो चन्द्रमा गैलेटीआ का समकक्षी है। इसके बाद का वलय लेवेरीएर है जिसके दो सहवलय लासेल और आर्गो है। अंत मे एक धूंधला लेकिन चौड़ा वलय गाले है।

नेपच्युन का चुंबकिय क्षेत्र युरेनस के जैसे विचित्र रूप से निर्देशित है।

नेपच्युन कभी कभी नंगी आंखो से देखा जा सकता है लेकिन बाइनाकुलर या छोटी दूरबीन से इसे आसानी से देखा जा सकता है।

नेपच्युन के चन्द्रमा

नेपच्युन और उसके चन्द्रमा(प्रोटेउस उपर, लारीसा निचे दाएं, डेस्पीना बायें): हब्बल से लिया चित्र

नेपच्युन और उसके चन्द्रमा(प्रोटेउस उपर, लारीसा निचे दाएं, डेस्पीना बायें): हब्बल से लिया चित्र

नेपच्युन के १३ ज्ञात चन्द्रमा है।

उपग्रह दूरी (000किमी) व्यास (किमी) द्रव्यमान(किग्रा) आविष्कारक वर्ष
नाएड Naiad 48 29 ? वायेजर २ 1989
थैलसा Thalassa 50 40 ? वायेजर २ 1989
डेस्पीना Despina 53 74 ? वायेजर २ 1989
गालेटीआ Galatea 62 79 ? वायेजर २ 1989
लारीसा Larissa 74 96 ? वायेजर २ 1989
प्राटेउस Proteus 118 209 ? वायेजर २ 1989
ट्राईटन Triton 355 1350 2.14e22 लासेल 1846
नेरीड Nereid 5509 170 ? काईपर 1949
हालीमेडे Halimede 15728 61 ? 2002
साओ Sao 22422 40 ? 2002
लावोमीडीआ Laomedeia 23571 40 ? 2002
सामथे Psamathe 46695 38 ? 2003
नेसो Neso 48387 60 ? 2002

नेपच्युन के वलय

नेपच्युन के वलय(वायेजर २ से लिया चित्र)

वलय दूरी (किमी) चौड़ाई (किमी) दूसरा नाम
डीफ्युज Diffuse 41900 15 1989N3R,गाले Galle
अंदरूनी Inner 53200 15 1989N2R,लेवेरीएर LeVerrier
प्लैटेउ Plateau 53200 5800 1989N4R,लासेल आर्गो Lassell,Arago
मुख्य Main 62930 <50 1989N1R,एडम्स Adams
फ़रवरी 8, 2011

ओबेरान

ओबेरान

ओबेरान

ओबेरान यह युरेनस के बड़े चंद्रमाओ मे से सबसे बाहरी और दूसरा सबसे बड़ा चन्द्रमा है।

कक्षा : 583,420 किमी युरेनस से
व्यास : 1523 किमी
द्रव्यमान : 3.03e21 किग्रा

ओबेरान शेक्सपियर के नाटक ’मिडसमर नाईट्स ड्रीम’ मे परियो का राजा और टाईटेनीया का पति है।

ओबेरान की खोज 1787 मे हर्शेल ने की थी।

उम्ब्रीएल और ओबेरान एक जैसे है लेकिन ओबेरान 35% बड़ा है। युरेनस के सभी बड़े चन्द्रमा 40-50% बर्फ और शेष चट्टानो से बने है। इनमे चट्टानो की मात्रा शनि के बड़े चन्द्रमा जैसे रीया के किंचित ज्यादा है।

ओबेरान की सतह क्रेटरो से भरी हुयी है और स्थायी है। इसके क्रेटर एरीयल और टाईटेनीया से ज्यादा और बड़े है। इसके कुछ क्रेटरो मे कैलीस्टो की तरह धारीया है।

कुछ क्रेटरो की सतह धूंधली है शायद किसी गहरे पदार्थ (गंदा पानी?) के कारण।

ओबेरान के दक्षिणी गोलार्ध मे एक गहरी दरार है जो इसकी भूतकाल की भूगर्भिय गतिविधी को दर्शाती है। इस पर एक छः किमी उंचा पर्वत भी है।

इसे एक साधारण दूरबीन से गहरी रात मे देखा जा सकता है।

फ़रवरी 8, 2011

टाईटेनीया

टाईटेनीया

टाईटेनीया

टाईटेनीया यह युरेनस का चौदहंवा ज्ञात और सबसे बड़ा चन्द्रमा है।

कक्षा : 436,270 किमी युरेनस से
व्यास : 1578 किमी
द्रव्यमान : 3.49e21 किग्रा
टाईटेनीया शेक्सपियर  के नाटक मिड समर नाईट्स ड्रीम  मे परीयो की रानी तथा ओबेरान की पत्नी है।
टाईटेनीया की खोज 1787 मे हर्शेल ने की थी।

एरीयल और टाईटेनीया एक जैसे है लेकिन टाईटेनीया 35% बड़ा है। युरेनस के सभी बड़े चन्द्रमा 40-50% बर्फ और शेष चट्टानो से बने है। इनमे चट्टानो की मात्रा शनि के बड़े चन्द्रमा जैसे रीया के किंचित ज्यादा है।

टाईटेनीया की सतह मे क्रेटरो से भरे पठारो के अतिरिक्त एक दूसरे से जुड़ी सैकड़ो किमी लम्बी, 10 किमी से ज्यादा गहरी घाटीयां है। यह टाईटेनीया के जैसे लेकिन बड़ी और ज्यादा मात्रा मे है। इसके कुछ क्रेटर आधे भरे हुये है। टाईटेनीया की सतह नयी है लेकिन एन्क्लेडस से पूरानी है। इस चन्द्रमा पर नयी सतह के बनने की प्रक्रिया अभी भी चल रही है। उसकी घाटीयो के मध्य शायद बर्फ की उपस्थिति है।

टाईटेनीया शायद कुछ समय पूर्व गर्म रहा होगा लेकिन वर्तमान मे ठन्डा है। शायद टाईटेनीया की घाटीया इसके ठंडे होने की प्रक्रिया मे आयी दरारे है।

इसे एक साधारण दूरबीन से गहरी रात मे देखा जा सकता है।

फ़रवरी 8, 2011

उम्ब्रीएल

उम्ब्रीएल

उम्ब्रीएल

उम्ब्रीएल यह युरेनस का तेरहंवा ज्ञात और तीसरा सबसे बड़ा चन्द्रमा है।
कक्षा : 265,980 किमी युरेनस से

व्यास : 1170किमी

द्रव्यमान : 1.27e21 किग्रा

उम्ब्रीएल अलेक्जेण्डर पोप के नाटक ‘द रेप आफ द लाक’ मे एक पात्र है।
उम्ब्रीएल की खोज 1851मे लासेल ने की थी।

उम्ब्रीएल और ओबेरान एक जैसे है लेकिन ओबेरान 35% बड़ा है। युरेनस के सभी बड़े चन्द्रमा 40-50% बर्फ और शेष चट्टानो से बने है। इनमे चट्टानो की मात्रा शनि के बड़े चन्द्रमा जैसे रीया के किंचित ज्यादा है।

उम्ब्रीएल की सतह क्रेटरो से भरी हुयी है और स्थायी है। इसके क्रेटर एरीयल और टाईटेनीया से ज्यादा और बड़े है।

उम्ब्रीएल काफी गहरे रंग का है और युरेनस के सबसे चमकदार चन्द्रमा एरीयल से आधा चमकदार है।

फ़रवरी 8, 2011

एरीयल

एरीयल

एरीयल

एरीयल यह युरेनस का बारहंवा ज्ञात चन्द्रमा है।
कक्षा : १९०,९३० किमी युरेनस से

व्यास : ११५८ किमी

द्रव्यमान : १.२७e२१ किग्रा

एरीयल शेक्सपियर के नाटक ‘द टेम्पेस्ट ‘ मे एक आत्मा है।

एरीयल की खोज १८५१ मे लासेल ने की थी।

एरीयल और टाईटेनीया एक जैसे है लेकिन टाईटेनीया ३५% बड़ा है। युरेनस के सभी बड़े चन्द्रमा ४०-५०% बर्फ और शेष चट्टानो से बने है। इनमे चट्टानो की मात्रा शनि के बड़े चन्द्रमा जैसे रीया के किंचित ज्यादा है।

एरीयल की सतह मे क्रेटरो से भरे पठारो के अतिरिक्त एक दूसरे से जुड़ी सैकड़ो किमी लम्बी, १० किमी से ज्यादा गहरी घाटीयां है। यह टाईटेनीया के जैसे लेकिन बड़ी और ज्यादा मात्रा मे है। इसके कुछ क्रेटर आधे भरे हुये है। एरीयल की सतह नयी है लेकिन एन्क्लेडस से पूरानी है। इस चन्द्रमा पर नयी सतह के बनने की प्रक्रिया अभी भी चल रही है। उसकी घाटीयो के मध्य शायद बर्फ की उपस्थिति है।

एरीयल शायद कुछ समय पूर्व गर्म रहा होगा लेकिन वर्तमान मे ठन्डा है। शायद एरीयल की घाटीया इसके ठंडे होने की प्रक्रिया मे आयी दरारे है।

इसे एक साधारण दूरबीन से गहरी रात मे देखा जा सकता है।

फ़रवरी 8, 2011

मिरांडा

मिरांडा

मिरांडा

मिरांडा यह युरेनस का ग्यारहवां ज्ञात चन्द्रमा है। यह युरेनस के बड़े चंद्रमाओ मे सबसे अंदरूनी है।
कक्षा : 129,850किमी युरेनस से

व्यास : 472किमी

द्रव्यमान : 6.3e19 किग्रा

मिरांडा शेक्सपियर के नाटक टेम्पेस्ट के जादूगर प्रास्पेरो की बेटी का नाम है।

मिरांडा की खोज 1949मे क्वीपर ने की थी।

वायेजर अंतरिक्षयान को नेपच्युन तक पहुंचने के लिये युरेनस के समीप से गुजरना था। युरेनस की उपग्रह प्रणाली क्रातिवृत्त से लम्बवत होने के कारण वायेजर यान केवल मिरांडा को पास से निरिक्षण कर पाया। वायेजर यान से पहले इस चन्द्रमा के बारे मे कम जानकारी थी। यह ज्यादा बड़ा नही है, इस चन्द्रमा मे कुछ भी विशेष नही है, इसे वायेजर यान की यात्रा के लिये चुना नही जाता लेकिन यह वायेजर यान के मार्ग मे आ गया। और यह चन्द्रमा आश्चर्यजनक रूप से सबसे दिलचस्प निकला।

मिरांडा आधा बर्फ और आधा चट्टानी है।

मिरांडा की सतह मीश्रीत है जिसमे अत्याधिक क्रेटरो के सार्ग पर्वत, घाटीया और चोटीया(5 किमी उंची) है। वायेजर 2 यान के शुरुवाती तस्वीरो मे मिरांडा एक रहस्य था। सभी को यह आशा थी कि युरेनस के चन्द्रमाओ मे अंदरूनी प्रक्रिया के प्रमाण नही होंगे। लेकिन मिरांडा की सतह इतनी विचित्र थी कि इसे समझाने के लिये सही तकनिकी शब्द कम पड़ रहे थे। उन्हे समझाने के लिये फीता, रेस ट्रेक, परतदार केक जैसे शब्दो का प्रयोग करना पड़ रहा था।

युरेनस के चारो बड़े चन्द्रमाओ को साधारण दूरबीन से देखा जा सकता है, लेकिन मिरांडा थोड़ा कठीन है। इसे गहरी रात मे देखा जा सकता है।

फ़रवरी 8, 2011

कोर्डेलीया, ओफेलीआ, बीनाका, क्रेस्सीडा, डेस्डेमोना, जूलीयट, पोर्टीआ, रोजालींड, बेलींडा तथा पक

युरेनस के अंदरूनी 10 चन्द्रमा निम्नलिखित है

  1. कार्डेलीया
  2. ओफेलीया
  3. बीनाका
  4. क्रेसीडा
  5. डेस्डेमोना
  6. जुलीयट
  7. पोर्टीआ
  8. रोजालिंड
  9. बेलींडा तथा
  10. पक

कार्डेलीया

कार्डेलीया (निचे मध्य मे, चमकदार वलय के अंदर);ओफेलीया (उपर बायें चमकदार वलये के बाहर)

कार्डेलीया (निचे मध्य मे, चमकदार वलय के अंदर);ओफेलीया (उपर बायें चमकदार वलये के बाहर)

कार्डेलीया यह युरेनस का सबसे अंदरूनी ज्ञात चन्द्रमा है।

कक्षा : 49,752 किमी युरेनस से
व्यास : 26किमी
द्रव्यमान : ?

कार्डेलीया शेक्सपीयर के नाटक किंग लीयर मे लियर की पुत्री थी।

इस चन्द्रमा की खोज वायेजर 2 ने 1986 मे की थी।

कार्डेलीया युरेनस के एप्सीलान वलय का गड़रीया(नियंत्रण करने वाला) अंदरूनी चन्द्रमा प्रतित होता है।

कार्डेलीया  तथा ओफेलीया समकालीक कक्षा मे है।

ओफेलीया

ओफेलीया युरेनस का दूसरा ज्ञात चन्द्रमा है।

कक्षा : 53,764 किमी युरेनस से
व्यास : 32 किमी
द्रव्यमान : ?

ओफेलीया शेक्सपीयर के नाटक हेमलेट मे पोलोनियस की पुत्री थी।

इस चन्द्रमा की खोज वायेजर 2 ने 1986  मे की थी।

ओफेलीया युरेनस के एप्सीलान वलय का गड़रीया(नियंत्रण करने वाला) बाह्य चन्द्रमा प्रतित होता है।

कार्डेलीया  तथा ओफेलीया समकालीक कक्षा मे है।

बीनाका

बीनाका

बीनाका

बीनाका युरेनस का तीसरा ज्ञात चन्द्रमा है।

कक्षा : 59,165 किमी युरेनस से
व्यास : 44 किमी
द्रव्यमान : ?

बीनाका शेक्सपीयर के नाटक टेमींग द श्रीउ मे कैथरीन की बहन है।

इस चन्द्रमा की खोज वायेजर 2 ने 1986 मे की थी।

बीनाका की सतह का रंग भूरा है। इसका आकार लम्बे पिंड के जैसा है जिसका मुख्य अक्ष युरेनस की ओर है।

क्रेसीडा

क्रेसीडा, पोर्टीआ तथा ओफेलीआ

क्रेसीडा, पोर्टीआ तथा ओफेलीआ

यह युरेनस का चौथा ज्ञात चन्द्रमा है।

कक्षा : 61,767 किमी युरेनस से
व्यास : 66 किमी
द्रव्यमान : ?

क्रेसीडा शेक्सपीयर के नाटक ट्राइलस और क्रेसीडा मे कलचास की पुत्री है।

इस चन्द्रमा की खोज वायेजर 2 ने 1986 मे की थी।

डेस्डेमोना

यह युरेनस का पांचवा ज्ञात चन्द्रमा है।

 

 

 

 

 

डेस्डेमोना

डेस्डेमोना

 

 

 

 

कक्षा : 62,659 किमी युरेनस से
व्यास : 58 किमी
द्रव्यमान : ?

डेस्डेमोना शेक्सपीयर के नाटक ओथेलो मे ओथेलो  की पुत्री है।

इस चन्द्रमा की खोज वायेजर 2 ने 1986 मे की थी।

जूलीयट

जूलीयट

जूलीयट

जूलीयट युरेनस के ज्ञात चंद्रमाओ मे छठा है।

कक्षा : 64,358 किमी युरेनस से
व्यास : ८४ किमी
द्रव्यमान : ?

जूलीयट शेक्सपीयर के नाटक रोमीयो और जूलीयट की नायीका  है।

इस चन्द्रमा की खोज वायेजर 2 ने 1986 मे की थी।

जूलीयट की सतह का रंग भूरा है। इसका आकार लम्बे पिंड के जैसा है जिसका मुख्य अक्ष युरेनस की ओर है।

पोर्टीया

यह युरेनस का सांतवा ज्ञात चन्द्रमा है।

कक्षा : 66,097 किमी युरेनस से
व्यास : 110 किमी
द्रव्यमान : ?

पोर्टीया शेक्सपीयर के नाटक मर्चेट ओफ़ वेनीस की एक पात्र है।

इस चन्द्रमा की खोज वायेजर 2 ने 1986 मे की थी।

पोर्टीआ की सतह का रंग भूरा है। इसका आकार लम्बे पिंड के जैसा है जिसका मुख्य अक्ष युरेनस की ओर है।

रोजालिंड

यह युरेनस के ज्ञात चन्द्रमाओ मे आंठवा है।

कक्षा : 69,927 किमी युरेनस से
व्यास : 54 किमी
द्रव्यमान : ?

रोजालिंड शेक्सपीयर के नाटक एज यू लाईक इट मे डुयुक की पुत्री है।

इस चन्द्रमा की खोज वायेजर 2 ने 1986 मे की थी।

बेलींडा

बेलींडा

बेलींडा

यह युरेनस के ज्ञात चन्द्रमाओ मे नौवां है।

कक्षा : 75,255 किमी युरेनस से
व्यास : 68 किमी
द्रव्यमान : ?


बेलींडा अलेक्जेन्डर पोप के नाटक द रेप आफ द लाक की नायीका है।

इस चन्द्रमा की खोज वायेजर 2 ने 1986 मे की थी।

पक

पक

पक

यह युरेनस का दंसवा ज्ञात चन्द्रमा है।

कक्षा : 86,006 किमी युरेनस से
व्यास : 154 किमी
द्रव्यमान : ?

पक शेक्सपीयर के नाटक मिडसमर नाईट ड्रीम की शरारती परी है।

इस चन्द्रमा की खोज वायेजर 2 ने 1986 मे की थी।

यह सभी चन्द्रमा काफी गहरे है(अल्बीडो <0.1)

फ़रवरी 8, 2011

युरेनस

युरेनस- वायेजर २ से लिया चित्र

युरेनस- वायेजर २ से लिया चित्र

युरेनस सूर्य का सांतवा तथा तीसरा सबसे बड़ा(व्यास से) ग्रह है। युरेनस नेपच्युन से आकार मे बड़ा लेकिन द्रव्यमान से छोटा है।
कक्षा : 2,870,990,000 किमी(19.218 AU)सूर्य से
व्यास :51,118किमी (विषुवत वृत्त पर)
द्रव्यमान : 8.683e25 किग्रा

ग्रीक मिथक कथाओ मे युरेनस स्वर्ग का राजा है। युरेनस गैया का पति और क्रोनस(शनि), सायक्लोप्स तथा टाईटन का पिता है।

युरेनस आधिनिक काल मे खोजा जाने वाला पहला ग्रह है जिसे विलियम हर्शेल ने 13 मार्च 1781 को अपनी दूरबीन से खोजा था। इसे इसके पहले भी देखा गया था लेकिन उसे तारा समझ कर उपेक्षित किया गया। 1600 मे जोन फ्लेमस्टीड ने उसे 34 टौरी के नाम से तारे के रूप मे वर्गीकृत किया था। खगोलशास्त्री बोडे ने ग्रीक मिथको के देवताओ के नाम पर ग्रहो के नामकरण की परंपरानुसार इसे युरेनस नाम दिया।

वायेजर 2 ने 24 जनवरी 1986 को युरेनस की यात्रा की थी।

युरेनस अपने वलय, चन्द्रमा और अक्षांशो पर विभिन्न रंगो के पट्टे के साथ

युरेनस अपने वलय, चन्द्रमा और अक्षांशो पर विभिन्न रंगो के पट्टे के साथ

अधिकतर ग्रह सौरमंडल के प्रतल के लम्बवत घुर्णन करते है लेकिन युरेनस का घुर्णन अक्ष इसके समांतर है। जिससे यह प्रतित होता है कि यह ग्रह सुर्य की परिक्रमा लुढकते हुये कर रहा है। जब वायेजर २ यान ने इसकी यात्रा की थी तब इसका दक्षिणी ध्रुव सूर्य की ओर था। इसके अक्ष के इस तरह झुके रहने से इसके ध्रुवो को विषुवत रेखिय क्षेत्रो से ज्यादा सूर्य उर्जा प्राप्त होती है। लेकिन युरेनस अपने विषुवत पर ध्रुवो की तुलना मे ज्यादा गर्म है जिसका कारण अज्ञात है।

युरेनस के इस तरह झुके होने से इसके उत्तरी ध्रुव के निर्धारण की भी समस्या है। इसके लिये या तो अक्ष का झुकाव ९० डीग्री से ज्यादा और परिक्रमा की दिशा घड़ी की सुइयो के विपरित होना चाहीये या अक्ष का झुकाव ९० डीग्री से कम और परिक्रमा की दिशा घड़ी की सुइयो की दिशा मे होना चाहिये।

युरेनस की संरचना

युरेनस की संरचना

युरेनस मुख्यतः चट्टान और विभिन्न तरह की बर्फ से बना है जिसमे १५% हायड्रोजन और थोड़ी हीलीयम है। यह बृहस्पति और शनि के विपरित है जो मुख्यतः हायड़्रोजन से बने है। युरेनस और नेपच्युन का केन्द्रक कुछ हद तक शनि और बृहस्पति के केन्द्रक जैसा है लेकिन धात्विक द्रव हायड़्रोजन की परत नही है। यह प्रतित होता है कि युरेनस का केन्द्रक शनि और बृहस्पति की तरह चटटानी नही है और उसमे पदार्थ समान रूप से वितरित है।

युरेनस के वातावरण मे 83% हायड्रोजन, 15% हीलीयम और 2% मिथेन है।

अन्य गैस महाकाय ग्रहो की तरह युरेनस पर बादलो के पट्टे है जो तेज गति से बहते है। लेकिन यह पट्टे काफी धुंधले है जिन्हे वायेजर 2 के चित्रो मे कठीनायी से देखा जा सकता है। हब्बल ले कुछ चित्रो मे मे ये पट्टे स्पष्ट दिखायी देते है। हब्बल के कुछ और निरिक्षणो इस पर सक्रियता दिखायी दी है। युरेनस पर मौसमी प्रभाव से अंतर दिखायी पढता है।

युरेनस का निला रंग उसके वातावरण मे उपरी भाग मे स्थित मिथेन द्वारा लाल रंग के अवशोषण के कारण है। बृहस्पति के जैसे विभिन्न रंगो के पट्टे मौजूद हो सकते है लेकिन वे उपरी वातावरण मे मौजूद मिथेन द्वारा ढंके हुये है।

अन्य गैस ग्रहो की तरह युरेनस के भी वलय है। बृहस्पति की तरह ये वलय गहरे रंग के है लेकिन शनि की तरह वे बारीक धूलकणो से लेकर 10मिटर तक के चट्टानो से बने है। युरेनस के 13 ज्ञात वलय है, सभी धूंधले है, सबसे चमकदार एप्सीलान वलय है। शनि के बाद युरेनस के वलय सबसे पहले देखे गये थे। यह एक महत्वपूर्ण खोज थी क्योंकि अब हम जानते है कि सभी गैस ग्रहो  के वलय होते है; शनि का इसमे एकाधिकार नही है।

वायेजर 2 ने युरेनस के 10 छोटे चन्द्रमा खोजे थे जो पहले से खोजे गये 5 बड़े चन्द्रमाओ के अतिरिक्त है। इसके वलयो मे कुछ छोटे और चन्द्रमाओ के होने की उम्मीद है।

युरेनस कभी कभी नंगी आंखो से देखा जा सकता है लेकिन बाइनाकुलर या छोटी दूरबीन से इसे आसानी से देखा जा सकता है।

युरेनस के चन्द्रमा

युरेनस के चन्द्रमा आकार की तुलना मे

युरेनस के चन्द्रमा आकार की तुलना मे

  • युरेनस के 27 ज्ञात चन्द्रमा है
  • युरेनस के चन्द्रमा के नाम ग्रीक मिथको पर आधारित ना होकर शेक्सपियर और पोप की रचनाओ पर है|
  • इनके 2 समूह है, वायेजर द्वारा खोजे गये 11 छोटे अंदरूनी चन्द्रमा और 5 बड़े चन्द्रमा।
  • अधिकतर चन्द्रमा युरेनस के विषुवत के प्रतल पर युरेनस की परिक्रमा करते है जिससे वे सौर मंडल के प्रतल पर लम्बवत होते है।
चन्द्रमा दूरी (000किमी) व्यास किमी द्रव्यमान(किग्रा) आविष्कारक वर्ष
कार्डेलीया Cordelia 50 13 ? वायेजर २ 1986
ओफेलीया Ophelia 54 16 ? वायेजर २ 1986
बीनाका Bianca 59 22 ? वायेजर २ 1986
क्रेसीडा Cressida 62 33 ? वायेजर २ 1986
डेस्डेमोना Desdemona 63 29 वायेजर २ 1986
जूलीयट Juliet 64 42 ? वायेजर २ 1986
पोर्टीआ Portia 66 55 ? वायेजर २ 1986
रोजालिंड Rosalind 70 27 ? वायेजर २ 1986
क्युपिड Cupid 75 6 ? Showalter 2003
बेलींडा Belinda 75 34 ? वायेजर २ 1986
पेरडीटा Perdita 76 40 ? वायेजर २ 1986
पक Puck 86 77 ? वायेजर २ 1985
मैब Mab 98 8 8? शोवाल्टर Showalter 2003
मिरान्डा Miranda 130 236 6.30e19 क्वीपर Kuiper 1948
एरीयल Ariel 191 579 1.27e21 लासेल Lassell 1851
अम्ब्रीएलUmbriel 266 585 1.27e21 लासेल Lassell 1851
टाईटनीया Titania 436 789 3.49e21 हर्शेल Herschel 1787
ओबेरान Oberon 583 761 3.03e21 हर्शेल Herschel 1787
फ्रान्सीस्को Francisco 4281 6? शेफर्ड Sheppard 2003
कालीबान Caliban 7169 40 ? ग्लैडमन Gladman 1997
स्टीफनो Stephano 7948 15? ग्लैडमन Gladman 1999
ट्राइन्कुलो Trinculo 8578 5? हालमन Holman 2001
सायकोरेक्स Sycorax 12213 80 ? निकल्सन Nicholson 1997
मार्गरेट Margaret 14689 6? ? शेफर्ड Sheppard 2003
प्रोसपेरो Prospero 16568 20? हाल्मन Holman 1999
सेटेबोस Setebos 17681 20 ? काबेलार्स Kavelaars 1999
फर्डीनाण्ड Ferdinand 21000 6 शेफर्ड Sheppard 2003
युरेनस के वलय

युरेनस के वलय

युरेनस के वलय

वलय दूरी(किमी) चौड़ाई(किमी)
1986U2R 38000 2,500
6 41840 1-3
5 42230 2-3
4 42580 2-3
अल्फा Alpha 44720 7-12
बीटा Beta 45670 7-12
ईटा Eta 47190 0-2
गामा Gamma 47630 1-4
डेल्टा Delta 48290 3-9
1986U1R 50020 1-2
एप्सीलान Epsilon 51140 20-100